Battlegrounds Mobile India open for pre-registrations on Google Play Store : How To Pre Register Battleground Mobile India.

Battlegrounds Mobile India open for pre-registrations on Google Play Store : How To Pre Register Battleground Mobile India.

Battlegrounds Mobile India pre-registration link is now available on the Google Play Store for Android users. You can head over to the original application developed by Krafton and can hit the pre-register button to be among the first to play the game when it releases. Speaking of which, the Battlegrounds Mobile India release date is yet to be revealed, but reports claim it will arrive in the first half of June. With the Battlegrounds Mobile India pre registration now open, Krafton has also revealed a bunch of other details, including the exclusive pre-registration rewards, trailer, and some details about the upcoming game.

Battlegrounds Mobile India pre-registration link :

Here’s how to pre-register for Battlegrounds Mobile India. Head over to the Battlegrounds Mobile India application on the Google Play Store on your Android device. You can then hit the pre-registration button and be among the first to know when the game releases. Battlegrounds Mobile India pre-registration for iOS users has not opened yet.

Watch This Video for Step Step Process - https://youtu.be/XILEqClqfLA

Battlegrounds Mobile India rewards :

If you pre-register for Battlegrounds Mobile India, you will receive exclusive rewards. Krafton has revealed that you will get 4 pre-registration awards, the Recon Mask, the Recon Outfit, Celebration Expert Title, and 300 AG. These rewards are exclusive for Indian players who pre-register for Battlegrounds Mobile India.

Battlegrounds Mobile India open for pre-registrations on Google Play Store : How To Pre Register Battleground Mobile India.
Contents shared By educratsweb.com



IIHMR University counsels over 1000 candidates for ‘Career opportunities in Public Health’ for MPH Program
IIHMR University counsels over 1000 candidates for ‘Career opportunities in Public Health’ for MPH Program

COVID-19 Pandemic highlighted the need for public health specialists in India

IIHMR University counsels over 1000 candidates for ‘Career opportunities in Public Health’ for MPH Program

Jaipur, 18th May 2021: The pandemic has caused major stress on the existing workforce with the second wave causing even a bigger disruption across the globe. The access is incomplete with the lack of public healthcare professionals. COVID-19 has allowed us to introspect on the lack of a healthcare workforce, the need for robust infrastructure. To highlight an understanding and the importance of Public Healthcare soon, IIHMR University hosted a counselling session on ‘Career Opportunities in Public Health’ to enrol for a Master of Public Health Programme. The MPH program is collaboratively offered by The Johns Hopkins Bloomberg School of Public Health and IIHMR University, Jaipur. The session witnessed a participation of over 1000 candidates across the globe.’ The counselling session was conducted by the panellists Dr. SD Gupta, Chairman, IIHMR University, Dr. DK Mangal, Professor, Advisor (SDG-SPH) and Dr.SutapaBandyopadhyay, Director, IIHMR Delhi.

“Today India is facing a grim situation where there is a major burden on the frontline workers and we sense this number is not enough to fight the battle in the current situation. Investment in Human Resource especially in the Public Healthcare setup shall only improvise the overall healthcare infrastructure, especially in public healthcare. COVID-19 has certainly increased numerous opportunities in the healthcare sector where diseases can be treated in hospitals but preventive care can only be provided by public healthcare. The density of the health workforce in India is not even half of the 44.5 health workers per 10,000 persons as recommended by the World Health Organization. Master of Public Health is a great career opportunity for those who seek to build a strong career with a major focus in Public Healthcare”, said Dr. SD Gupta, Chairman IIHMR University.

Dr. SD Gupta, Chairman, IIHMR University, said, “The overarching goal of the MPH program is to provide students with a population perspective on Public Health. The Johns Hopkins Bloomberg School of Public Health and IIHMR University’s Cooperative MPH Program is designed to prepare students to overcome the current and emerging global public health problems such as the current issues of COVID-19 pandemic flu, AIDS, Obesity, Diabetes, Disparities to healthcare, Bioterrorism, etc. the program is the number 1 globally acclaimed off-shore program which offers an American Degree. Apart from the campus of Johns Hopkins Bloomberg School of Public Health in Baltimore, the MPH program is only offered at the IIHMR University campus in Jaipur- India.”

Dr.SutapaBandyopadhyay, Director, IIHMR Delhi said, “A few years ago it was laid that every District must have a Medical Health College. If this comes out to be true then every single Medical College can have a Public Health Department. Three domains that can be selected after the MPH program are Academics, Research or Public Health practice. Out of all the research publications that come out from India on the subject of health hardly 3.3% are devoted to the subject of public health. A lot of impetus and emphasis is now been given on how to promote Public Health in the country. Between 2009-2010, India has seen an annual research output in Public health increasing by 32%.”

Dr.Sutapa further adds, “It is quite a sorry state of affair as 2/3rd of the publications were done because of the international collaborations which mean India does is not self-reliant in terms of researching on our own. Thus much focus is now given to research where we have competent professionals to research specific states, districts, even our own country. Much impetus is being given; hence, Research is one such area that MPH Program graduates can explore. Career in Research can influence policies, academic, programme management etc. The third career option is a practice which could be Govt. or Non-Govt.”

Dr. DK Mangal, Professor, Advisor (SDGSPH) said, “There is no dearth of opportunities for qualified professionals in Public Health. Passion for looking at a broader aspect of health beyond individual health especially in the field of helping or serving people at large then this is the right career. COVID-19 has emphasized the importance of Public Health. To address calamities, we need public health interventions that can be implemented by trained Public Health professionals. These interventions halt the further transmissions and reverse the incidence or prevalence of any communicable diseases.”

The eligibility criteria for the 2 years full-time Master of Public Health program with 86 credits is to be a graduate in Medical, BDS, BAMS, BHMS, Management, Microbiology, Biotechnology, Science, Commerce, Economics, Computer Science, Information Technology and other health-related disciplines can apply for this program. In addition, the candidate must have 2 years of work experience in health settings. Candidates with MBBS, MD, PhD degrees are exempted from appearing TOEFL and GRE. The program is accredited by CEPH, USA where MPH is in its 8th batch.

The program is offered at USD 70,000 which goes up to USD 100,000 in the USA. For the students in lower and middle-income countries especially from India, Sri Lanka, Bangladesh, Myanmar, Afghanistan, Maldives the program is offered at USD 22,000. The fee of USD 22,000 includes tuition, travel and stay in Baltimore and the hostel fee at IIHMR University in Jaipur is separate. The students who have joined the MPH program will be awarded a degree by The Johns Hopkins Bloomberg School of Public Health in collaboration with IIHMR University Jaipur. Courses at IIHMR University will be conducted on campus whereas those at JHU will be conducted online due to COVID-19 (however the mode of delivery is subjected to the Pandemic situation in both the counties).

Career role: Offers a broad responsibility to the public healthcare professional to improve healthcare services’ quality and efficiency in different situations. Careers that can be explored after the MPH program would be Health Administrators, Medical and Health Services, Disaster Management Offices, Public Health Program Managers, NGO Management, Community Service Managers, Disease-Specific Health Specialists, Communications Manager for Public Health Program, Consultancy etc.

IIHMR University counsels over 1000 candidates for ‘Career opportunities in Public Health’ for MPH Program
Contents shared By educratsweb.com



Columbia Pacific Communities (CPC) and Fortis Healthcare launch #ReachOut, a mental health initiative supporting India’s elderly amid the second COVID wave
Columbia Pacific Communities (CPC) and Fortis Healthcare launch #ReachOut, a mental health initiative supporting India’s elderly amid the second COVID wave

Columbia Pacific Communities (CPC) and Fortis Healthcare launch #ReachOut, a mental health initiative supporting India’s elderly amid the second COVID wave

The ten-day social media campaignencourages senior citizens to seek help for their mental health allowing them to deal with trauma, hopelessness and stress.

Mumbai, May 17, 2021:With India battling the second wave of COVID-19, people of all ages are experiencing miasma, hopelessness and are unable to process the whirlpool of negative news surrounding them. Seniors in particular are feeling increasingly anxious and overwhelmed by the situation, and often tend to shy away from opening up about their mental health for the fear of being judged.

While the pandemic has largely focused on physical health (the importance of hygiene and sanitisation, building one’s immunity), there has not been much focus on the mental distress caused by the pandemic.

To help senior citizens address their mental health issues, Columbia Pacific Communities, India’s largest senior living community operator has partnered with Fortis Healthcare, one of India’s most reputed healthcare service providers to launch a mental wellness initiative titled #ReachOut. The objective of the10-day social media led initiative is to provide senior citizens with free and easy access to experts who can provide them with counselling, therapy andno-judgement, confidential conversations.

Mohit Nirula, CEO, Columbia Pacific Communities, said, “Even after a year of the pandemic, mental health is a topic that is not discussed much. We believe that mental wellness is an integral part of overall wellness, a primary driver of positive ageing, and have always created space and opportunities for our residents to retain charge of their lives. In these difficult times, when seniors staying on their own are feeling lonely, isolated, overwhelmed and hopeless, this initiative in association with Fortis Healthcare, one of India’s most reputed healthcare service providers, will encourage them to open up and reach out for help.”

The objective of this initiative by Columbia Pacific Communities is to stand with India’s senior citizensduring this difficult time and provide them a safe space encouraging them to ask for help.

‘Fortis Stress Helpline’ by Fortis National Mental Health Program, is a free 24x7 helpline providing support, crisis intervention and guidance by psychologists.

Commenting on the initiative, Dr Samir Parikh, Director, Fortis National Mental health Programsaid, “It’s important that we understand the need to make mental health a priority for everyone. Acceptance of mental health concerns is the first step in that direction and seeking help is most important to help individuals cope with difficulties. Mental health of the elderly needs special attention and we at Fortis National Mental Health Program at Fortis Healthcare welcome the initiative by Columbia Pacific Communities to bring mental health of the elderly into focus.”

To bring mental wellness to the forefront and encourage more open-hearted conversations, CPC has launched a short awareness film showcasing the kind of response seniors receive when they try to speak about their mental health. The video highlights the importance of reaching out for help at a time like this and shares with them a helpline number which gives them access to counsellors who would give them a patient hearing and share coping mechanisms in as many as 15 different Indian languages.

Link of the video – https://youtu.be/y04PPxRSULM

Helpline number - 8376804102

About Columbia Pacific Communities

Columbia Pacific Communities (CPC) is India’s largest and most experienced senior living community operator with close to 1600 residential units under management in 5 cities and 9 locations across south India. As the pioneers in this category, it is committed to reimagining the concept of senior living in India and create world-class practices that exceed these expectations of all our stakeholders. It is part of the Columbia Pacific group, one of the foremost developers of senior living communities in the United States, Canada and South East Asia. Founded by Dan Baty, Columbia Pacific has more than 40 years of experience and expertise in designing, building and managing senior housing communities around the world. The team, with the expertise of their principals in the United States of America and our partners in India, brings together rich experience in senior housing design, development and management.

About Fortis National Mental Health Program

‘The Department of Mental Health and Behavioural Sciences at Fortis Healthcare is an integrated mental healthcare system comprising a multidisciplinary team of experts including psychiatrists, clinical and counselling psychologists, art and movement-based therapists, psycho-oncologists, remedial experts, psychodynamic psychotherapists, organizational behavior psychologists and sport psychologists. Led by Dr. Samir Parikh, Director, Fortis National Mental Health Program, it is the one of the few multi-city multi-centric comprehensive mental health programme in the world, with a presence in 24 centers across Delhi-NCR, Mumbai, Bengaluru, Chennai, Kolkata, Mohali, Ludhiana, Amritsar, Jaipur and Udaipur. With a key focus on preventive and positive mental health, the department runs the Fortis School Mental Health Program, which is completely free of cost to schools. The Fortis Stress Helpline (8376804102) is a 24 X 7 helpline run by amultilingual team of mental health professionals in order to support individuals experiencing emotional distress.’

Columbia Pacific Communities (CPC) and Fortis Healthcare launch #ReachOut, a mental health initiative supporting India’s elderly amid the second COVID wave
Contents shared By educratsweb.com



सीता नवमी ( जानकी जयंती )

वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को सीता नवमी या जानकी नवमी कहते हैं। धर्म ग्रंथों के अनुसार इसी दिन सीता जी का प्राकट्य हुआ था इसीलिए यह पर्व माँ सीता के जन्म दिवस के रुप में मनाया जाता है। भगवान श्रीराम की अर्द्धांगिनी देवी सीता जी का जन्मदिवस फाल्गुन मास में कृष्ण पक्ष की अष्टमी को तो मनाया जाता ही है परंतु वैशाख मास के शुक्लपक्ष की नवमी तिथि को भी जानकी-जयंती के रूप में मनाया जाता है क्योंकि रामायण के अनुसार वे वैशाख में अवतरित हुईं थीं, किन्तु 'निर्णयसिन्धु' के 'कल्पतरु' ग्रंथानुसार फाल्गुन माह की कृष्ण पक्ष के दिन सीता जी का जन्म हुआ था इसीलिए इस तिथि को सीताष्टमी के नाम से भी संबोद्धित किया गया है अत: दोनों ही तिथियाँ उनकी जयंती हेतु मान्य हैं तथा दोनों ही तिथियां हिंदू धर्म में बहुत पवित्र मानी गई हैं। इस दिन वैष्णव संप्रदाय के भक्त माता सीता के निमित्त व्रत रखते हैं और पूजन करते हैं। मान्यता है कि जो भी इस दिन व्रत रखता व श्रीराम सहित सीता का विधि-विधान से पूजन करता है, उसे पृथ्वी दान का फल, सोलह महान दानों का फल तथा सभी तीर्थों के दर्शन का फल अपने आप मिल जाता है। अत: इस दिन व्रत करने का विशेष महत्त्व है।

शास्त्रों के अनुसार वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की नवमी के दिन पुष्य नक्षत्र में जब महाराजा जनक संतान प्राप्ति की कामना से यज्ञ की भूमि तैयार करने के लिए हल से भूमि जोत रहे थे, उसी समय पृथ्वी से एक बालिका का प्राकट्य हुआ। जोती हुई भूमि को तथा हल की नोक को भी 'सीता' कहा जाता है, इसलिए बालिका का नाम 'सीता' रखा गया।

सीता जन्म कथा सीता के विषय में रामायण और अन्य ग्रंथों में जो उल्लेख मिलता है, उसके अनुसार मिथिला के राजा जनक के राज में कई वर्षों से वर्षा नहीं हो रही थी। इससे चिंतित होकर जनक ने जब ऋषियों से विचार किया, तब ऋषियों ने सलाह दी कि महाराज स्वयं खेत में हल चलाएँ तो इन्द्र की कृपा हो सकती है। मान्यता है कि बिहार स्थित सीममढ़ी का पुनौरा नामक गाँव ही वह स्थान है, जहाँ राजा जनक ने हल चलाया था। हल चलाते समय हल एक धातु से टकराकर अटक गया। जनक ने उस स्थान की खुदाई करने का आदेश दिया। इस स्थान से एक कलश निकला, जिसमें एक सुंदर कन्या थी। राजा जनक निःसंतान थे। इन्होंने कन्या को ईश्वर की कृपा मानकर पुत्री बना लिया। हल का फल जिसे 'सीत' कहते हैं, उससे टकराने के कारण कालश से कन्या बाहर आयी थी, इसलिए कन्या का नाम 'सीता'रखा गया था। 'वाल्मीकि रामायण' के अनुसार श्रीराम के जन्म के सात वर्ष, एक माह बाद वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को जनक द्वारा खेत में हल की नोक (सीत) के स्पर्श से एक कन्या मिली, जिसे उन्होंने सीता नाम दिया। जनक दुलारी होने से 'जानकी', मिथिलावासी होने से 'मिथिलेश' कुमारी नाम भी उन्हें मिले। वर्तमान में मिथिला नेपाल का हिस्सा हैं अतः नेपाल में इस दिन को बहुत उत्साह से मनाते हैं . वास्तव में सीता, भूमिजा कहलाई क्यूंकि राजा जनक ने उन्हें भूमि से प्राप्त किया था ।

वेदों, उपनिषदों तथा अन्य कई वैदिक वाङ्मय में उनकी अलौकिकता व महिमा का उल्लेख एवं उनके स्वरूप का विस्तार पूर्वक वर्णन किया गया है जहाँ ऋग्वेद में एक स्तुति के अनुसार कहा गया है कि असुरों का नाश करने वाली सीता जी आप हमारा कल्याण करें एवं इसी प्रकार सीता उपनिषद जो कि अथर्ववेदीय शाखा से संबंधित उपनिषद है जिसमें सीता जी की महिमा एवं उनके स्वरूप को व्यक्त किया गया है. इसमें सीता को शाश्वत शक्ति का आधार बताया गया है तथा उन्हें ही प्रकृति में परिलक्षित होते हुए देखा गया है. सीता जी को प्रकृति का स्वरूप कहा गया है तथा योगमाया रूप में स्थापित किया गया है.

सीता जी ही प्रकृति हैं वही प्रणव और उसका कारक भी हैं. शब्द का अर्थ अक्षरब्रह्म की शक्ति के रूप में हुआ है यह नाम साक्षात 'योगमाया' का है. देवी सीता जी को भगवान श्रीराम का साथ प्राप्त है, जिस कारण वह विश्वकल्याणकारी हैं. सीता जी जग माता हैं और श्री राम को जगत-पिता बताया गया है एकमात्र सत्य यही है कि श्रीराम ही बहुरूपिणीमाया को स्वीकार कर विश्वरूप में भासित हो रहे हैं और सीता जी ही वही योगमाया है.इस तथ्य का उदघाटन निर्णयसिंधु से भी प्राप्त होता है जिसके अनुसार सीता शक्ति, इच्छा-शक्ति तथा ज्ञान-शक्ति तीनों रूपों में प्रकट होती हैं वह परमात्मा की शक्ति स्वरूपा हैं.

इस प्रकार सीता माता के चरित्र का वर्णन सभी वेदों में बहुत सुंदर शब्दों में किया गया हैं । ऋग्वेद में वे असुर संहारिणी, कल्याणकारी, सीतोपनिषद में मूल प्रकृति, विष्णु सान्निध्या, रामतापनीयोपनिषद में आनन्द दायिनी, आदिशक्ति, स्थिति, उत्पत्ति, संहारकारिणी, आर्ष ग्रंथों में सर्ववेदमयी, देवमयी, लोकमयी तथा इच्छा, क्रिया, ज्ञान की संगमन हैं। गोस्वामी तुलसीदास ने उन्हें सर्वक्लेशहारिणी, उद्भव, स्थिति, संहारकारिणी, राम वल्लभा कहा है। 'पद्मपुराण' उन्हें जगतमाता, अध्यात्म रामायण एकमात्र सत्य, योगमाया का साक्षात् स्वरूप और महारामायण समस्त शक्तियों की स्रोत तथा मुक्तिदायिनी कह उनकी आराधना करता है। 'रामतापनीयोपनिषद' में सीता को जगद की आनन्द दायिनी, सृष्टि, के उत्पत्ति, स्थिति तथा संहार की अधिष्ठात्री कहा गया है-

श्रीराम सांनिध्यवशां-ज्जगदानन्ददायिनी।

उत्पत्ति स्थिति संहारकारिणीं सर्वदेहिनम्॥

वाल्मीकि रामायण में भी देवी सीता को शक्ति स्वरूपा, ममतामयी, राक्षस नाशिनी, पति व्रता आदि कई गुणों से सज्जित बताया गया है । वाल्मीकि रामायण' के अनुसार सीता राम से सात वर्ष छोटी थीं। 'रामायण' तथा 'रामचरितमानस' के बालकाण्ड में सीता के उद्भवकारिणी रूप का दर्शन होता है एवं उनके विवाह तक सम्पूर्ण आकर्षण सीता में समाहित हैं, जहाँ सम्पूर्ण क्रिया उनके ऐश्वर्य को रूपायित करती है। अयोध्याकाण्ड से अरण्यकाण्ड तक वह स्थितिकारिणी हैं, जिसमें वह करुणा-क्षमा की मूर्ति हैं।

वह कालरात्रि बन निशाचर कुल में प्रविष्ट हो उनके विनाश का मूल बनती हैं। यद्यपि तुलसीदास ने सीताजी के मात्र कन्या तथा पत्नी रूपों को दर्शाया है, तथापि वाल्मीकि ने उनके मातृस्वरूप को भी प्रदर्शित कर उनमें वात्सल्य एवं स्नेह को भी दिखलाया है। इसलिए सीताजी का जीवन एक पुत्री, पुत्रवधू, पत्‍‌नी और मां के रूप में उनका आदर्श रूप सभी के लिए पूजनीय रहा है ।

मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम तथा माता जानकी के अनन्य भक्त गोस्वामी तुलसीदास जी 'रामचरितमानस' के बालकांड के प्रारंभिक श्लोक में सीता जी को ब्रह्म की तीन क्रियाओं उद्भव, स्थिति, संहार, की संचालिका तथा आद्याशक्ति कहते हुए नमस्कार करते हैं-

उद्भव स्थिति संहारकारिणीं हारिणीम्।

सर्वश्रेयस्करीं सीतां नतोऽहं रामबल्लभाम्॥

अद्भुत रामायण का उल्लेख श्रीराम तथा सीता इस घटना से ज्ञात होता है कि सीता राजा जनक की अपनी पुत्री नहीं थीं। धरती के अंदर छुपे कलश से प्राप्त होने के कारण सीता खुद को पृथ्वी की पुत्री मानती थीं। लेकिन वास्तव में सीता के पिता कौन थे और कलश में सीता कैसे आयीं, इसका उल्लेख अलग-अलग भाषाओं में लिखे गये रामायण और कथाओं से प्राप्त होता है। 'अद्भुत रामायण' में उल्लेख है कि रावण कहता है कि- "जब मैं भूलवश अपनी पुत्री से प्रणय की इच्छा करूँ, तब वही मेरी मृत्यु का कारण बने।" रावण के इस कथन से ज्ञात होता है कि सीता रावण की पुत्री थीं। 'अद्भुत रामायण' में उल्लेख है कि गृत्स्मद नामक ब्राह्मण लक्ष्मी को पुत्री रूप में पाने की कामना से प्रतिदिन एक कलश में कुश के अग्र भाग से मंत्रोच्चारण के साथ दूध की बूंदें डालता था। एक दिन जब ब्राह्मण कहीं बाहर गया था, तब रावण इनकी कुटिया में आया और यहाँ मौजूद ऋषियों को मारकर उनका रक्त कलश में भर लिया। यह कलश लाकर रावण ने मंदोदरी को सौंप दिया। रावण ने कहा कि यह तेज विष है। इसे छुपाकर रख दो। मंदोदरी रावण की उपेक्षा से दुःखी थी। एक दिन जब रावण बाहर गया था, तब मौका देखकर मंदोदरी ने कलश में रखा रक्त पी लिया। इसके पीने से मंदोदरी गर्भवती हो गयी। कुछ समय बाद रावण को मंदोदरी से एक पुत्री प्राप्त हुई जिसे उसने जन्म लेते ही सागर में फेंक दिया। सागर में डूबती वह कन्या सागर की देवी वरुणी को मिली और वरुणी ने उसे धरती की देवी पृथ्वी को सौंप दिया और देवी पृथ्वी ने उस कन्या को राजा जनक और माता सुनैना को सौंप दिया,जिसके बाद वह कन्या सीता के रूप में जानी गई और बाद में इसी सीता के अपहरण के कारण भगवान राम ने रावण का वध किया .

वास्तव में सीता रावण और मंदोदरी की बेटी थी इसके पीछे बहुत बड़ा कारण थी वेदवती । सीता वेदवती का पुनर्जन्म थी । वेदवती एक बहुत सुंदर, सुशिल धार्मिक कन्या थी जो कि भगवान विष्णु की उपासक थी और उन्ही से विवाह करना चाहती थी । अपनी इच्छा की पूर्ति के लिए वेदवती ने कठिन तपस्या की । उसने सांसारिक जीवन छोड़ स्वयं को तपस्या में लीन कर दिया था । वेदवती उपवन में कुटिया बनाकर रहने लगी .

एक दिन वेदवती उपवन में तपस्या कर रही थी . तब ही रावण वहां से निकला और वेदवती के स्वरूप को देख उस पर मोहित हो गया और उसने वेदवती के साथ दुर्व्यवहार करना चाहा, जिस कारण वेदवती ने हवन कुंड में कूदकर आत्मदाह कर लिया और वेदवती ने ही मरने से पूर्व रावण को श्राप दिया कि वो खुद रावण की पुत्री के रूप में जन्म लेगी और रावण की मृत्यु का कारण बनेगी ।

सीता नवमी ( जानकी जयंती ) महात्म्य कथा


सीता नवमी की पौराणिक कथा के अनुसार मारवाड़ क्षेत्र में एक वेदवादी श्रेष्ठ धर्मधुरीण ब्राह्मण निवास करते थे। उनका नाम देवदत्त था। उन ब्राह्मण की बड़ी सुंदर रूपगर्विता पत्नी थी, उसका नाम शोभना था। ब्राह्मण देवता जीविका के लिए अपने ग्राम से अन्य किसी ग्राम में भिक्षाटन के लिए गए हुए थे। इधर ब्राह्मणी कुसंगत में फंसकर व्यभिचार में प्रवृत्त हो गई।

अब तो पूरे गांव में उसके इस निंदित कर्म की चर्चाएं होने लगीं। परंतु उस दुष्टा ने गांव ही जलवा दिया। दुष्कर्मों में रत रहने वाली वह दुर्बुद्धि मरी तो उसका अगला जन्म चांडाल के घर में हुआ। पति का त्याग करने से वह चांडालिनी बनी, ग्राम जलाने से उसे भीषण कुष्ठ हो गया तथा व्यभिचार-कर्म के कारण वह अंधी भी हो गई। अपने कर्म का फल उसे भोगना ही था।

इस प्रकार वह अपने कर्म के योग से दिनों दिन दारुण दुख प्राप्त करती हुई देश-देशांतर में भटकने लगी। एक बार दैवयोग से वह भटकती हुई कौशलपुरी पहुंच गई। संयोगवश उस दिन वैशाख मास, शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि थी, जो समस्त पापों का नाश करने में समर्थ है।

सीता (जानकी) नवमी के पावन उत्सव पर भूख-प्यास से व्याकुल वह दुखियारी इस प्रकार प्रार्थना करने लगी- हे सज्जनों! मुझ पर कृपा कर कुछ भोजन सामग्री प्रदान करो। मैं भूख से मर रही हूं- ऐसा कहती हुई वह स्त्री श्री कनक भवन के सामने बने एक हजार पुष्प मंडित स्तंभों से गुजरती हुई उसमें प्रविष्ट हुई। उसने पुनः पुकार लगाई- भैया! कोई तो मेरी मदद करो- कुछ भोजन दे दो।

इतने में एक भक्त ने उससे कहा- देवी! आज तो सीता नवमी है, भोजन में अन्न देने वाले को पाप लगता है, इसीलिए आज तो अन्न नहीं मिलेगा। कल पारणा करने के समय आना, ठाकुर जी का प्रसाद भरपेट मिलेगा, किंतु वह नहीं मानी। अधिक कहने पर भक्त ने उसे तुलसी एवं जल प्रदान किया। वह पापिनी भूख से मर गई। किंतु इसी बहाने अनजाने में उससे सीता नवमी का व्रत पूरा हो गया।

अब तो परम कृपालिनी ने उसे समस्त पापों से मुक्त कर दिया। इस व्रत के प्रभाव से वह पापिनी निर्मल होकर स्वर्ग में आनंदपूर्वक अनंत वर्षों तक रही। तत्पश्चात् वह कामरूप देश के महाराज जयसिंह की महारानी काम कला के नाम से विख्यात हुई। उसने अपने राज्य में अनेक देवालय बनवाए, जिनमें जानकी-रघुनाथ की प्रतिष्ठा करवाई।

अत: सीता नवमी पर जो श्रद्धालु माता जानकी का पूजन-अर्चन करते है, उन्हें सभी प्रकार के सुख-सौभाग्य प्राप्त होते हैं। श्रीजानकी नवमी पर श्रीजानकी जी की पूजा, व्रत, उत्सव, कीर्तन करने से उन परम दयामयी श्रीमती सीता जी की कृपा हमें अवश्य प्राप्त होती है तथा इस दिन जानकी स्तोत्र, रामचंद्रष्टाकम्, रामचरित मानस आदि का पाठ करने से मनुष्य के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।

पूजन विधि


जिस प्रकार हिन्दू धर्म में 'राम नवमी' का महात्म्य है, उतना ही महत्व 'जानकी जयंती' या 'सीता नवमी' का भी है । सीता जयंती के उपलक्ष्य पर भक्तगण माता सीता की उपासना करते हैं। परम्परागत ढंग से श्रद्धा पूर्वक पूजन अर्चन किया जाता है तथा सीता जी की विधि-विधान पूर्वक आराधना की जाती है। इस दिन व्रत का भी नियम बताया गया है जिसे करने हेतु व्रतधारी को व्रत से जुडे सभी नियमों का पालन करना चाहिए। इस पावन पर्व पर जो व्रत रखता है तथा भगवान रामचन्द्र जी सहित भगवती सीता का अपनी शक्ति के अनुसार भक्तिभाव पूर्वक विधि-विधान से सोत्साह पूजन वन्दन करता है, उसे पृथ्वी दान का फल, महाषोडश दान (16 महान दानों ) का फल, अखिल तीर्थ भ्रमण का फल और सर्वभूत दया का फल स्वतः ही प्राप्त हो जाता है।

'सीता नवमी' पर व्रत एवं पूजन हेतु अष्टमी तिथि को ही स्वच्छ होकर शुद्ध भूमि पर सुन्दर मण्डप बनायें। यह मण्डप सौलह, आठ अथवा चार स्तम्भों का होना चाहिए। मण्डप के मध्य में सुन्दर आसन रखकर भगवती सीता एवं भगवान श्रीराम की स्थापना करें। पूजन के लिए स्वर्ण, रजत, ताम्र, पीतल, काठ एवं मिट्टी इनमें से सामर्थ्य अनुसार किसी एक वस्तु से बनी हुई प्रतिमा की स्थापना की जा सकती है। मूर्ति के अभाव में चित्र द्वारा भी पूजन किया जा सकता है। नवमी के दिन स्नान आदि के पश्चात् जानकी-राम का श्रद्धापूर्वक पूजन करना चाहिए। पूजन में चावल, जौ, तिल आदि का प्रयोग करना चाहिए। 'श्री रामाय नमः' तथा 'श्री सीतायै नमः' मूल मंत्र से प्राणायाम करना चाहिए। 'श्री जानकी रामाभ्यां नमः' मंत्र द्वारा आसन, पाद्य, अर्घ्य, आचमन, पंचामृत स्नान, वस्त्र, आभूषण, गन्ध, सिन्दूर तथा धूप-दीप एवं नैवेद्य आदि उपचारों द्वारा श्रीराम-जानकी का पूजन व आरती करनी चाहिए।इसके साथ रामचरित मानस से देवी सीता के प्राकट्य अथवा राम-जानकी विवाह प्रसंग का पाठ करना भी उत्तम है । दशमी के दिन फिर विधिपूर्वक भगवती सीता-राम की पूजा-अर्चना के बाद मण्डप का विसर्जन कर देना चाहिए। इस प्रकार श्रद्धा व भक्ति से पूजन करने वाले पर भगवती सीता व भगवान राम की कृपा प्राप्ति होती है।

इस दिन आठ सौभाग्यशाली महिलाओं को सौभाग्य की वस्तुएं भेंट करें। लाल वस्त्र का दान जानकी जयंती को किया जाए तो यह अतिशुभ होता है। अगर प्रतिमा निर्माण कर पूजन करें तो दूसरे दिन पवित्र जल में उसका विसर्जन कर देना चाहिए। चढ़ाए गए पुष्प आदि भी साथ ही विसर्जित करने चाहिए। इससे मां सीता जीवन के पाप-संताप और दुखों का निवारण कर सौभाग्य का वरदान देती हैं।

इस व्रत को करने से सौभाग्य सुख व संतान की प्राप्त होती है, माँ सीता लक्ष्मी का हैं इसकारण इनके निमित्त किया गया व्रत परिवर में सुख-समृ्द्धि और धन कि वृद्धि करने वाला होता है. एक अन्य मत के अनुसार माता का जन्म क्योंकि भूमि से हुआ था, इसलिए वे अन्नपूर्णा

सीता नवमी ( जानकी जयंती )
Contents shared By educratsweb.com



Accounting Assignment Help
Accounting Assignment Help

If it has been a long time since your trying to ace your assignments but nothing is working out, let us tell you there is always an option of availing online assignment help. Just make sure that while you are trying to reach helpers you don’t stumble upon fraudsters. Before choosing any assignment help provider do check their previous work samples. This will let you know the way they work. Along with this, never undermine the importance of user feedback while judging a website. Go through the student reviews carefully and see whether maximum users have criticized their service or loved it. Then make a decision that you deem fit.

Accounting Assignment Help
Contents shared By bhavi sati



Post a Comment (0)
Previous Post Next Post

Submit Guest Post Job information | Contents | RSS feed | Link | Youtube Video | Photo


News | Education | General Awareness | Government Schemes | Admit Card | Study Material | Exam Result | Scholorship | DATA | Syllabus | Archives | Rss feed Posts | Free Online Practice Set | Our Blog | Photo | Video | Search Pincode | Best Deal | Greetings | Recent Jobs | RSS | Whatsapp Grroup | Question | Flipboard | Q&A | Link | Photo | Video | Latest Jobs | Business Directory